Third Party Vehicle Insurance Kya Hai In Hindi- Third Party Vehicle Insurance की पूरी जानकारी?

Third Party Vehicle Insurance Kya Hai In Hindi

Third Party Vehicle Insurance Kya Hai In Hindi:- जब हम अपने वाहन बीमा करने जाते हैं तो हमें हमारे वाहन पर बीमा देने वाले बैंक या फाइनेंस कंपनी के द्वारा वाहन बीमा के कई सारे ऑप्शन मिल जाते हैं। जिनमे से एक थर्ड पार्टी वाहन बीमा के बारे में जरूर सुना होगा।Third Party Vehicle Insurance के बारे में बहुत ही कम लोग जाते हैं। और बहुत से लोग को Third Party Vehicle Insurance के बारे में जानकारी ही नही है कि आखिर Third Party Vehicle Insurance क्या होता है।

जैसा कि तो जानते है कि यदि आपके वाहन का Vehicle Insurance किया है तो आपके वाहन से किसी भी तरह के हादसा होने की स्थिति में होने वाले खर्च और कनूनी करवाही से आसानी से बच सकते हैं। Vehicle Insurance की बजह से आप अन्य समस्याओं से भी बच सकते हैं। अगर आप Third Party Vehicle Insurance के बारे में जानना चाहते हैं तो आपको इस लेख को लास्ट तक पूरा पढ़ना होगा।

इस आर्टिकल में आज हम आपके लिए बतयेगें की Third Party Vehicle Insurance क्या होता है। इसके अतिरिक्त हम आपको बतयेगें की fist party Vehicle Insurance क्या होता है, थर्ड पार्टी और फास्ट पार्टी और थर्ड पार्टी Vehicle Insurance में क्या अंतर है। और Vehicle Insurance कितने तरह के होते हैं इन सब की जानकारी हम आपको इस लेख में प्रदान करने वाले है।

और साथ ही हम आपको बतयेगें की आप किस तरह अपने वाहन का Third Party Vehicle Insurance करा सकते हैं। इसलिए आ इस लेख में लास्ट तक बने रहे। उम्मीद है आपको हमारे द्वारा बतायी गयी जानकारी काफी पसन्द आएगी और आप Third Party Vehicle Insurance के बारे में और अधिक जान पायेंगे।

Vehicle Insurance क्या है-

दोस्तो अगर आप जानते है कि Vehicle Insurance क्या होता है तो अच्छी बात है और अगर आप Vehicle Insurance के बारे में अधिक नही जानते हैं तो आपकी जानकारी के लिए हम आप लोगो के लिए बता दें कि जब हम अपने वाहन का बीमा किसी भी इंश्योरेंस कंपनी से कराते हैं तो किसी भी प्रकार की दुर्घटना की बजह से होने वाले आर्थिक हानि से बच सकते हैं।

आप किसी भी इंश्योरेंस कंपनी के द्वारा कानूनी तौर पर कॉन्ट्रैक्ट करके बीमा करा सकते हैं जिसके तहत आपको वाहन के साथ होने वाली किसी भी तरह की दुर्घटना की स्थिति में हुए नुकसान का भुकतान इंश्योरेंस कंपनी के द्वारा किया जाएगा। इसके अलावा Vehicle Insurance कॉन्ट्रैक्ट के अंतर्गत इंश्योरेंस कंपनी प्रॉपर्टी, लायबिलिटी और मेडिकल आदि सेवाएं प्रदान करती है।

Vehicle Insurance के प्रकार-

हमारे भारत देश मे दो प्रकार के Vehicle Insurance किये जाते हैं जो इस प्रकार है।

  • Full party Vehicle Insurance
  • Third Party Vehicle Insurance

Full Party Vehicle Insurance-

इस Vehicle Insurance के तहत जब किसी वाहन की दुर्घटना दूसरे वाहन के साथ होती है तो इंश्योरेंस कंपनी इस दुर्घटना में होने वाले वाहन के ड्राइवर, उसमें बैठे लोग सभी लोगो के अलावा दूसरे वाहन के ड्राइवर और अन्य सभी लोगो के साथ साथ वाहन में दुघर्टना के दौरान वाहन के हुए सारे नुकसान का सारा भुकतान इंश्योरेंस कंपनी के द्वारा किया जाता है।

MICR Code Kya Hai in Hindi- MICR Code क्या है पूरी जानकारी?

Third Party Vehicle Insurance-

यह एक विशेष प्रकार का Vehicle Insurance होता है जिसके अंतर्गत न ही बीमा करने वाला व्यक्ति (fist persion), और न ही बीमा करने वाला व्यक्ति (second person) को इस बीमा का लाभ प्राप्त होता है बल्कि इस बीमा का लाभ दुर्घटना होने के दौर नुकसान धोने वाले व्यक्ति का बस्तु (third person) को दिया जाता है। इसलिए इस Insurance को Third Party Vehicle Insurance कहा जाता है। जिससे आप इस प्रकार समझ सकते है की Third Party Vehicle Insurance क्या होता है।

Third Party Vehicle Insurance तीन पक्ष में बटा हुआ है।

पहला पक्ष- इस पक्ष में उस व्यक्ति को समल्लित किया गया है जो व्यक्ति Third Party Vehicle Insurance करवाता है या फिर खरीदता है।

दूसरा पक्ष- इसमें बीमा करने वाली इंश्योरेंस कंपनी को रखा गया है जो बीमा पॉलिसी को पहले पक्ष को बेचती है या करती है।

तीसरा पक्ष- पहले और दूसरे पक्ष को छोड़कर एक अन्य तीसरा पक्ष भी होता है इसके तहत किसी वाहन से दुर्घटना के दौरान क्षति होने वाले व्यक्ति या समान को रखा गया है। इस तीसरे पक्ष को ही इस बीमा का लाभ दिया जाता है। जिस कारण इससे Third Party Vehicle Insurance कहा जाता है।

Third Party Vehicle Insurance के लाभ-

दोस्तो आपके मन मे यह सवाल जरूर आ रहा होगा कि Third Party Vehicle Insurance खरीदने वाले नागरिक को इसका लाभ प्राप्त नही होता है। तो आपको इस Vehicle Insurance कराना चाहिए या नही तो हम आपको बता दें कि आप इस बीमा को जरूर कराए। दोस्तो ये सच है कि इस बीमा का लाभ बीमा कराने वाले व्यक्ति को नही मिलता लेकिन वह इस बीमा के तहत सभी प्रकार के कानूनी और आर्थिक नुकसानों से बच जाता है। जिन नुकसानों की भरपाई वाहन मालिक को करनी पड़ती है। जिसमे कानूनी और अस्पताल दोनों खर्च को शामिल किया गया है।

इससे आप इस प्रकार समझ आसानी से समझ सकते है। जैसे कि आप बहुत गरीब है और आपके वाहन से 1 करोड़ रुपये का नुकसान हो जाता है तो आप इससे अपनी जेब से काफी नही चुका पाएंगे लेकिन यदि अपने Third Party Vehicle Insurance कराया है तो इस पूरे नुकसान को इंश्योरेंस कंपनी द्वारा चुकाया जाएगा। जिससे आपको कोई भी परेशानी का सामना नही करना होगा।

Third Party Vehicle Insurance की प्रीमियम दर-

अगर आप Third Party Vehicle Insurance की प्रीमियम की दरों के बरए में जानना चाहते हैं तो हम आपके लिए बता दें कि भारतीय बीमा विनियामक तथा विकास प्राधिकरण IRD ने Third Party Vehicle Insurance के लिए एक रेट लिस्ट जारी की है। आप इस प्रकार से वर्ष 2018-19 की प्रीमियम दर समझ सकते हैं।

For privete Vehicle-

  • जिस प्रिवेट कार की क्षमता 1000 CC से कम है उस पर 1850 रुपये प्रीमियम निर्धारित किया गया है।
  • 1000-1500 CC क्षमता वाली कारो के लिए 2863 रुपये प्रीमियम निर्धारित किया गया है।
  • तथा 1500 CC से अधिक क्षमता वाली कारो के लिए 7890 रुपये प्रीमियम निर्धारित किया गया है।

For Two wheels Vehicle-

  • दो पहिया वाहन के लिए भारतीय बीमा विनियामक तथा विकास प्राधिकरण IRD प्रीमियम निर्धारित किया गया है।
  • जिसमे 75CC की क्षमता वाले वाहन के लिए 427 रुपये,
  • 75- 150 CC की क्षमता वाले वाहन के लिए 720 रुपये का प्रीमियम
  • 150-350 CC की क्षमता वाले वाहन के लिए 950
  • तथा 350 CC से अधिक क्षमता वाले वाहन के लिए 2323 रुपये निर्धारित किया गया है।

For Comrshiyal Vehicle-

  • 1000 CC से कम क्षमता वाले वाहन के लिए 5437 रुपये प्रीमियम
  • 1000-1500 CC वाले वाहनों के लिए 7147 रुपये प्रीमियम
  • 1500 CC से ज्यादा क्षमता वाले वाहनों के लिए 9472 रुपये प्रीमियम को निर्धारित किया गया है।

दोस्तों उम्मीद करते Third Party Vehicle Insurance Kya Hai In Hindi- Third Party Vehicle Insurance की पूरी जानकारी? की जानकरी आपको पसंद आई होगी अगर पसंद आई तो इसे अपने दोस्तों को Facebook,twitter,whatsapp पर पर शेयर करे जिससे ये जानकारी उनको भी मिल सकते ||धन्यवाद||

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here